राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

0
287

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

समाज विकास संवाद!

न्यू दिल्ली,

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में केंद्रीय मंत्रिमंडल ने आज राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 को मंजूरी दे दी।

नई नीति का उद्देश्य देश में स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणालियों में परिवर्तनकारी सुधारों के लिए मार्ग प्रशस्त करना है।

यह नीति सान 1986 में प्रष्ठापितभारत की 34 वर्ष पुरानी राष्ट्रीय शिक्षा नीति (NPE) की जगह लेगी।

इस नए शिक्षा नीति मे देश की प्रमुख आर्थ- सामाजिक मुद्दो के ऊपर ध्यान रखकर ही रचना की गयी है।

अभूतपूर्व परामर्श द्वारा तैयार हुआ राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020 (एन ई पी 2020)

एन ई पी 2020 को भारत की करीब 2.5 लाख ग्राम पंचायतों,  6600 ब्लॉक, 6000 ULB,  

676 जिलों से लगभग 2 लाख सुझावों को शामिल करने वाली एक अभूतपूर्व प्रक्रिया के बाद तैयार किया गया है।

एम एच आर डी ने जनवरी 2015 से एक अभूतपूर्व सहयोगी,  

समावेशी और अत्यधिक जन भागीदारी मुलक परामर्श द्वारा इस प्रक्रिया शुरू की थी ।

मई 2016 में,  ’नई शिक्षा नीति के विकास के लिए समिति’  स्वर्गीय श्री टी.एस. आर सुब्रमण्यन की अध्यक्षता में गठित किया गया था ।

पूर्व कैबिनेट सचिव  स्वर्गीय श्री टी.एस. आर सुब्रमण्यन, ने अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत की थी ।

इसके आधार पर,  मंत्रालय ने ड्राफ्ट नेशनल एजुकेशन पॉलिसी,  2016 के लिए कुछ इनपुट तैयार किए। ‘

जून 2017 में प्रख्यात वैज्ञानिक डॉ। के. कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में एक ‘मसौदा राष्ट्रीय शिक्षा नीति समिति’ का गठन किया गया,

जिसने 31 मई, 2019 को माननीय मानव विकास मंत्री को मसौदा राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2019 प्रस्तुत किया था ।

 

राष्ट्रिय शिक्षा नीति – कुछ प्रमुख मुद्दे निम्नलिखित प्रकार से है।

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

विद्यालय शिक्षा
  • नई नीति का लक्ष्य 2030 तक स्कूली शिक्षा में 100% सकल नामांकन अनुपात (GER) के साथ पूर्व-माध्यमिक से माध्यमिक स्तर तक शिक्षा के सार्वभौमिकरण का लक्ष्य मात्र को पुराण करना है।

अर्थात, भारत की सभी आर्थिक व सामाजिक परिस्थिति अथवा प्रवर्ग अंतर्भुक्त परिवारों के बच्चो को शत प्रतिसत शिक्षा की मौका उपलब्ध कराना है।

  • राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020 ( एन ई पी 2020) ओपन स्कूलिंग प्रणाली के माध्यम से 2 करोड़ स्कूली बच्चों को मुख्य धारा में वापस लाएगा।
  • वर्तमान 10 + 2 शिक्षा प्रणाली को क्रमशः बयः अनुपात 3-8 वर्ष , 8-11 वर्ष , 11-14 वर्ष, और 14-18 वर्ष की आयु के अनुसार एक नया 5 + 3 + 3 + 4 पाठयक्रम संरचना द्वारा प्रतिस्थापित किया जाना है।

इस नयी शिक्षा प्रणाली अब तक के स्कूल शिक्षा से बाहर रहे 3-6 वर्ष की आयु के उपेक्षित बच्चो को विद्यालय शिक्षा मे लेकर आएगा।

इस 3-6 वर्ष की बच्चो की आयु को आंतर्राष्ट्रीय स्तर पर अहम माना गया है,

कियुंकी मनोवैज्ञानिक द्वारा इस उम्र को बच्चो मे मानसिक विकास की महत्वपूर्ण चरण माना गया है।

बच्चे इसिस उम्र मे जो भी सोचते है या फिर जैसे परिवेश मे रहते है ; आगे चलकर उसी दिशा मे उनकी मानसिक विकास होता है।

नई शिक्षा प्रणाली में तीन साल की आंगनवाड़ी / प्री स्कूलिंग के साथ 12 साल की स्कूली शिक्षा भी आवश्यक होगी।

शिक्ष्यार्थियो की फाउंडेशनल लिटरेसी और न्यूमेरिसिटी अर्थात गणना कौशल पर जोर दिया गया है ,  

स्कूलों में मुख्य शैक्षणिक धाराओं,  पाठ्येतर कार्यक्रम ,  व्यावसायिक धाराओं के बीच कोई कठोर अलगाव नहीं होगी ;  

कक्षा 6 से इंटर्नशिप के साथ व्यावसायिक शिक्षा शुरू करने के लिए मान्यता दी गयी है।

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।
  • मातृभाषा / क्षेत्रीय भाषा में कम से कम ग्रेड 5 अर्थात कक्षा 5 तक शिक्षा प्रदान करना आवश्यक।

किसी भी छात्र पर कोई भाषा जबरदस्ती थोपी नहीं जा सकेगी।

  • 360 डिग्री होलिस्टिक प्रोग्रेस कार्ड के साथ मूल्यांकन सुधार, लर्निंग आउटकम प्राप्त करने के लिए छात्र प्रगति पर नज़र अखि जाएगी।
  • शिक्षकों के लिए एक नया और व्यापक राष्ट्रीय पाठ्यचर्या की रूपरेखा तैयार किया जाएगा,

जो NCFTE 2021, NCERT द्वारा NCERT के परामर्श से बनाई जाएगी।

सन 2030 तक,  शिक्षकों के लिए न्यूनतम डिग्री योग्यता 4-वर्षीय एकीकृत बी.एड. डिग्री को प्रपट करना आवश्यक होगा।

 

अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट की स्थापना की जाएगी।

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

उच्च शिक्षा
  • 2035 तक उच्च शिक्षा में सभी माध्यमिक शिक्षार्थिओ के अनुपात मे कम से कम 50% नामांकन की लक्ष्यमात्रा धार्य किया गया है। इसी के लिए उच्च शिक्षा में 3.5 करोड़ नए सीटें जोड़ी जाएंगी। 
  • इस नयी राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020 में व्यापक आधारित/ प्रसारित, बहु-विषयक,

समग्र स्नातक शिक्षा के साथ लचीला पाठ्यक्रम,  विषयों का रचनात्मक संयोजन,  व्यावसायिक शिक्षा का एकीकरण और

उपयुक्त प्रमाणीकरण के साथ कई प्रवेश और निकास बिंदु शामिल हैं।

इस अवधि के भीतर कई निकास विकल्प और उपयुक्त प्रमाणीकरण प्रमाणपत्र  के साथ अंडर ग्रेजुएट शिक्षा 3 या 4 साल की हो सकती है।

  • ट्रांसफर ऑफ क्रेडिट की सुविधा के लिए अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट की स्थापना की जाएगी।
  • बहु-विषयक शिक्षा और अनुसंधान विश्वविद्यालय (MERUs), देश में वैश्विक मानकों के सर्वोत्तम

बहु-विषयक शिक्षा के मॉडल के रूप में स्थापित करने के लिए IIT, IIM के साथ सम्‍मिलित होगी ।

  • एक मजबूत अनुसंधान संस्कृति को बढ़ावा देने और उच्च शिक्षा के लिए अनुसंधान क्षमता के निर्माण के लिए

राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन एक शीर्ष निकाय के रूप में बनाया जाएगा।

  • भारत के उच्च शिक्षा आयोग (HECI) को चिकित्सा और कानूनी शिक्षा को छोड़कर

पूरे उच्च शिक्षा के लिए एक एकल ओवररचिंग छतरी निकाय के रूप में स्थापित किया जाएगा।

HECI के पास चार स्वतंत्र कार्यक्षेत्र हैं

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

HECI के पास चार स्वतंत्र कार्यक्षेत्र हैं – नियमन के लिए राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा नियामक परिषद (NHERC),  

मानक सेटिंग के लिए सामान्य शिक्षा परिषद (GEC),  वित्त पोषण के लिए उच्च शिक्षा अनुदान परिषद (HEGC),

और मान्यता के लिए राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद (NAC)।

सार्वजनिक और निजी उच्च शिक्षा संस्थानों को विनियमन, मान्यता और

शैक्षणिक मानकों के लिए समान मानदंडों के एक ही समूह द्वारा शासित किया जाएगा।

  • कॉलेजों की संबद्धता को 15 वर्षों में चरणबद्ध किया जाना है और कॉलेजों को ग्रेडेड स्वायत्तता प्रदान करने के लिए एक चरण-वार तंत्र स्थापित किया जाना है।

समय की अवधि में, यह परिकल्पना की गई है कि प्रत्येक कॉलेज या तो एक स्वायत्त डिग्री-अनुदान देने वाले कॉलेज, या एक विश्वविद्यालय के एक घटक कॉलेज में विकसित होगा।

 

नई नीति स्कूलों और उच्च शिक्षा दोनों में बहुभाषावाद को बढ़ावा देती है।

राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

अन्य महत्वपूर्ण मुद्दे-
  • एक स्वायत्त निकाय, राष्ट्रीय शैक्षिक प्रौद्योगिकी फोरम (NETF), शिक्षण,  मूल्यांकन,  नियोजन,  

प्रशासन को बढ़ाने के लिए प्रौद्योगिकी के उपयोग पर विचारों के मुक्त आदान-प्रदान के लिए

एक मंच प्रदान करने के लिए बनाया जाएगा।

  • NEP 2020 में वंचित क्षेत्रों और समूहों के लिए जेंडर इंक्लूजन फंड, विशेष शिक्षा क्षेत्र की स्थापना पर जोर दिया गया है
  • नई नीति स्कूलों और उच्च शिक्षा दोनों में बहुभाषावाद को बढ़ावा देती है। राष्ट्रीय पाली संस्थान,

फारसी और प्राकृत, भारतीय अनुवाद संस्थान और व्याख्या की स्थापना की जाएगी

  • केंद्र और राज्य शिक्षा क्षेत्र में सार्वजनिक निवेश को बढ़ाने के लिए जल्द से जल्द जीडीपी के 6% तक पहुंचने के लिए मिलकर काम करेंगे।
राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020- नया आत्मनिर्भर भारत की और एक मज़बूत कदम- प्रधानमंत्री मोदी।

केंद्रीय मानव विकास मंत्रालय ने ड्राफ्ट राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019 को MHRD की वेबसाइट और ‘MyGov Innovate’  पोर्टल पर आम जनता सहित सभी हितधारकों के विचारों / सुझावों / टिप्पणियों को अपलोड किया था ।

‘MyGov Innovate’  पोर्टल, केंद्रीय मानव विकास मंत्रालय, राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2019, MHRD की वेबसाइट,

अकादमिक बैंक ऑफ क्रेडिट, राष्ट्रीय प्रत्यायन परिषद (NAC), उच्च शिक्षा अनुदान परिषद (HEGC),

सामान्य शिक्षा परिषद (GEC), शिक्षा नियामक परिषद (NHERC), राष्ट्रिय शिक्षा नीति 2020, आत्मनिर्भर भारत,

प्रधानमंत्री मोदी,

India Development News, Indian Development News, Indian Social News,

India social News, Developmental News, Indian society News,  

Amazing Amazon News, Samaj Vikas Samvad, New India News, Samaj Ka Vikas,

Gadget Samvad, science-technology Samvad, Global Samvad,

Amazon Prime News,

व्यापार संवाद, आयुर्वेद संवाद, गैजेट्स संवाद, समाज विकास संवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here