टिड्डी नियंत्रण कार्यों मे भारतीय वायु सेना की एम आई -17 हेलीकॉप्टर।

13
340

टिड्डी नियंत्रण कार्यों मे भारतीय वायु सेना की

एम आई – 17 हेलीकॉप्टर।

समाज विकास संवाद!

न्यू दिल्ली,

जोरोशोर से चल रहा है टिड्डी (Locust Swarm) नियंत्रण अभियान- राजस्थान,  मध्य प्रदेश सहित 10 राज्यों मे!

बीते दिनो राजस्थान,  मध्य प्रदेश, पं जाब,  गुजरात,  उत्तर प्रदेश,  महाराष्ट्र,  छत्तीसगढ़,  हरियाणा और,

बिहार की कृषि खेतियों मे में टिड्डी पंगपाल की आक्रमण भयंकर आकार धारण कर चुका है।

टिड्डी की आक्रमण के प्रकोप से इन राज्यों के किशन त्राहि त्राहि मचा रहे थ।

ऐसी अवस्था की मुक़ाबला करने के लिए केंद्रिय कृषि मंत्रालय द्वारा युद्ध स्टार पर टिड्डी मुक़ाबला का कार्य चल रहा है।

राजस्थान, मध्य प्रदेश, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, हरियाणा और,

बिहार में 3,15,636 हेक्टेयर क्षेत्र में 14 जुलाई 2020 तक नियंत्रण रेखा का संचालन किया गया।

वर्तमान में, स्प्रे उपकरण घुड़सवार वाहनों के साथ 79 केंद्रीय नियंत्रण दल तैनात हैं;

14 जुलाई -15 जुलाई की रात में राजस्थान के 8 जिलों,  उत्तर प्रदेश के बलरामपुर और

बहराइच जिलों और गुजरात के कच्छ जिले में नियंत्रण अभियान चलाया गया।

पिछले 11 अप्रैल 2020 से शुरू होकर 14 जुलाई 2020 तक,  राजस्थान,  मध्य प्रदेश,

पंजाब,  गुजरात,  उत्तर प्रदेश और हरियाणा राज्यों में लोकल सर्किल कार्यालयों (L C O) द्वारा 1,68,315 हेक्टेयर क्षेत्र में नियंत्रण कार्य किया गया है।

14th July  तक,  राज्य सरकारों द्वारा राजस्थान,  मध्य प्रदेश,  पंजाब,  गुजरात,  उत्तर प्रदेश,

महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़,  हरियाणा और बिहार में 1,47,321 हेक्टेयर क्षेत्र में नियंत्रण संचालन किया गया है।

इस अभियान के बाद टिड्डियों की आबादी बिखरी हुई है।

14 -15 जुलाई, 2020 की मध्यरात्रि में, राजस्थान के बाड़मेर,  जैसलमेर,  जोधपुर,  बीकानेर,  चूरू,  झुंझुनू

और सीकर जिलों में 27 स्थानों पर नियंत्रण अभियान चलाया गया।

उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले में 1 स्थान,  2 स्थानों पर गुजरात का कच्छ जिला।

इसके अलावा, संबंधित राज्य कृषि विभाग ने भी उत्तर प्रदेश के बलरामपुर और बहराइच जिलों में 2 स्थानों पर और

14 समूहों में 15 जुलाई -15 जुलाई 2020 को राजस्थान के पाली जिले में 1 स्थान पर छोटे समूहों के खिलाफ नियंत्रण अभियान चलाया।

इस अभियान के बाद टिड्डियों की आबादी बिखरी हुई है।

वर्तमान में स्प्रे उपकरण पर चलने वाले वाहनों और 200 से अधिक केंद्र सरकार के कर्मियों,

50 तकनीकी अधिकारियों और 22 ड्राइवरों के साथ अनुबंध के आधार पर 79 नियंत्रण टीमें टिड्डी नियंत्रण कार्यों में लगी हुई हैं।

इसके अलावा, 15 नए उलमास्ट स्प्रेयर यूके से भारत पहुंच चुके हैं।

इसके अलावा,  राजस्थान में बाड़मेर,  जैसलमेर,  बीकानेर,

नागौर और फलोदी में 15 ड्रोन के साथ 5 कंपनियों को कीटनाशकों के छिड़काव के माध्यम से ऊंचे पेड़ों और

दुर्गम क्षेत्रों पर प्रभावी नियंत्रण के लिए तैनात किया गया है।

आवश्यकता के अनुसार अनुसूचित रेगिस्तान क्षेत्र में उपयोग के लिए राजस्थान में एक बेल हेलीकॉप्टर तैनात किया गया है।

भारतीय वायु सेना भी एम आई -17 हेलीकॉप्टर का उपयोग करके टिड्डे विरोधी ऑपरेशन में परीक्षण कर रही है।

केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने वायु सेना की एम आई -17 हेलीकॉप्टर अभियान को हरी झंडी दिखाई।

पिछले दिनों केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर ने वायु सेना की एम आई -17 हेलीकॉप्टर अभियान को हरी झंडी दिखाई।

गुजरात,  उत्तर प्रदेश,  मध्य प्रदेश,  महाराष्ट्र,  छत्तीसगढ़,  बिहार और हरियाणा में कोई महत्वपूर्ण फसल नुकसान नहीं हुआ है।

हालांकि, राजस्थान के कुछ जिलों में कुछ मामूली फसल नुकसान हुए हैं

राजस्थान के बाड़मेर,  जैसलमेर,  जोधपुर,  बीकानेर,  चूरू,  झुंझुनू,  पाली और सीकर

एवं , उत्तर प्रदेश के बलरामपुर और बहराइच जिलों में अपरिपक्व गुलाबी टिड्डियों और वयस्क पीले टिड्डियों के झुंड सक्रिय हैं।

खाद्य और कृषि संगठन की टिड्डी स्थिति 13.07.2020 के अपडेट से संकेत मिलता है कि;

आने वाले हफ्तों में भारत की उत्तरी प्रदेशों में और अधिक टिड्डी आक्रमण होने की संभावना है

भारत-पाकिस्तान सीमा के दोनों किनारों पर हिन्द महासागर में उत्तर-पूर्व सोमालिया से टिड्डी का प्रवास होता है।

मनसून अर्थात बारिश से पहले भारत-पाक सीमा की ओर बहने वाले कई स्प्रिंग-बर्ड स्वार्म्स,

कुछ भारत के पूर्व के उत्तरी राज्यों में और कुछ समूह नेपाल तक पहुंचते रहे।

पूर्वानुमान है कि ये स्वार,  ईरान और पाकिस्तान से आने वाले अन्य स्वार में शामिल होने के लिए आने वाले दिनों में मानसून की शुरुआत के साथ राजस्थान में लौटेंगे,

भारत-पाकिस्तान सीमा पर टिड्डियों की शुरुआती प्रजनन। 

भारत-पाकिस्तान सीमा पर टिड्डियों की शुरुआती प्रजनन पहले ही हो चुका है,

जो कि लगभग जुलाई के मध्य में अफ्रीका के हॉर्न से स्वर्म्स  द्वारा पूरक होने की उम्मीद है।

और इसीलिए , इस वर्ष कृषि बिभाग द्वारा टिड्डी नियंत्रन कार्य युद्ध स्टार पर किया जा रहा है, जिससे आनेवाले वर्षो मे किशनों की फसल को नुकसान ना हो।

एम आई – 17 हेलीकॉप्टर, टिड्डी नियंत्रण कार्यों, केंद्रिय कृषि मंत्रालय, टिड्डी मुक़ाबला का कार्य,

टिड्डी मुक़ाबला का का, केन्द्रीय कृषि मंत्री श्री नरेंद्र सिंह तोमर,

वायु सेना की एम आई -17 हेलीकॉप्टर अभियान, हरी झंडी,

Amazing Amazon News, Samaj Vikas Samvad, New India News, Samaj Ka Vikas,

Gadget Samvad, science-technology Samvad, Global Samvad,

Amazon Prime News,

व्यापार संवाद, आयुर्वेद संवाद, गैजेट्स संवाद, समाज विकास संवाद

13 COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here