भारत को टुकड़े करने की मनसा वाले ‘शर्जील इमाम’ गिरफ्तार-देशद्रोह का मामला दर्ज!

0
231

भारत को टुकड़े करने की मनसा वाले ‘शर्जील इमाम’ गिरफ्तारदेशद्रोह का मामला दर्ज!

‘Sharjil Imam’ who wished to tear India down arrested – sedition case registered

समाज विकास संवाद!

न्यू दिल्ली, 

अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी(AMU) व् दिल्ली के जवाहरलाल नेहेरू यूनिवर्सिटी (JNU) के छात्र शर्जील इमाम-

जिसने पिछले कुछ दिनों से भारत को टुकड़े करने की मनसा रखने वाले वर्गों को एकजुट करने के उद्देश से

देशविरोधी भारकाऊ भाषण दे रहे थे; ऐसे मूल बिहार प्रान्त के निवासी ‘शर्जील इमाम’ आज बिहार के जहानावाद से गिरफ्तार हुए!

दिल्ली पुलिस की विशेष दल ने स्थानिक बिहार पुलिस के सहयोगिता से दोपहर करिव ३ बाजे के दरमियाँ

उसे जहानावाद के गोपनीय ठिकाने से ग्रेफ्तार कर लिया!

देशविरोधी मनसा वाले शर्जील इमाम के ऊपर पुलिस ने देशद्रोह का था मामला दर्ज कर लिया है!

इस देशविरोधी मनसा वाले के ऊपर पुलिस ने देशद्रोह का था मामला दर्ज कर लिया है!

नागरिकता कानून को लेकर चल रहे दिल्ली के शाहीनवाग़ इलाको में भारत की समाजतंत्र विरोधी प्रदर्शन भी

इसी शर्जील इमाम ने ही संगठित किया ऐसा माना जा रहा है!

नागरिकता क़ानून पारित होने के बाद से पिछले करिव देर महीने से चल रहे दिल्ली की जनसाधारन की दैनिक जीवन को

बेहद परेशान करने वाला इस शाहीनवाग़ की धरने में दिल्ली पुलिस व् प्रशासन को अस्त व्यस्त करके रखा है!

इस धरने की आयोजन व् सयोंजन के साथ साथ इसी धरने मंच की इस्तेमाल करके भारत देश से असम राज्य सहित;

सम्पूर्ण पूर्वोत्तर भारत को काट कर अलग करने की बात इसी देशद्रोही मानसिकता बाले इमाम ने कहा था!

केवल शाहीनवाग ही नहीं इसने उत्तर प्रदेश, विहार , उत्तराखंड सहित देश के बिभिन्न प्रान्त में जाकर भी इसी तरह की

भारकाऊ भाषण पिछले कही महीनो से देता रहा! पिछले कुछ हफ्तों से इसके द्वारा दिए गए

ज्यादातर देशद्रोही भाषण के विडियो सम्पूर्ण सोशल मीडिया व् टीवी मीडिया पर छाया रहा!

मीडिया ने शर्जील इमाम की तुरंत ग्रेफ्तारी व देशद्रोह की मुकद्दमा दर्ज करने  के लिए केंद्र सरकार पर भारी दबाव बनाय रखे !

इन विडियो के कारण पिछले दिनों देश के प्रमुख मीडिया ने शर्जील इमाम की तुरंत ग्रेफ्तारी व

उसके ऊपर देशद्रोह की तहत मुकद्दमा दर्ज करने के लिए केंद्र सरकार के ऊपर भारी दबाव बनाय रखे थे!

मीडिया के साथ साथ जनता के बड़ते हुए गुस्से की आंच शर्जील इमाम को भी लगते ही ,

इसीने तुरंत शाहीन बाग़ के धरना मंच छोरकर भगा व् जनता के नज़र से तुरंत छुप गया!

शर्जील इमाम को आखिरी बार 25 जनवरी को बिहार के फुलवारी शरीफ एरिया में एक रैली के दौरान देखा गया था!

इसीके बाद पिछले हफ्ते भारत के बिभिन्न राज्य में ; जैसे; उत्तर प्रदेश, असम , बिहार , उत्तराखंड व् दिल्ली में

पुलिस ने इसी देश विरोधी शक्श के खिलाफ लुक आउट नोटिस जारी कर दी थी!

क्या आप जानते हैं कि असमिया मुसलमानों के साथ क्या हो रहा है?

शर्जील इमाम ने आपने 16 जनवरी वाली अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी वाले सभा में कहा था-

‘‘क्या आप जानते हैं कि असमिया मुसलमानों के साथ क्या हो रहा है? एनआरसी पहले से ही वहां लागू है,

उन्हें हिरासत में रखा गया है। आगे चलकर हमें यह भी पता चल सकता है कि 6- 8 महीने में सभी बंगालियों को मार दिया गया।

हिंदू हों या मुस्लिम। अगर हम असम की मदद करना चाहते हैं, तो हमें भारतीय सेना और अन्य आपूर्ति के लिए

असम का रास्ता रोकना होगा।’’

हम भारत से पूर्वोत्तर को अलग कर सकते हैं!

‘‘चिकन नेक मुसलमानों का है। अगर हम सभी एक साथ आते हैं, तो हम भारत से पूर्वोत्तर को अलग कर सकते हैं।

यदि हम इसे स्थायी रूप से नहीं कर सकते, तो कम से कम 1-2 महीने के लिए हम ऐसा कर सकते हैं।

यह हमारी जिम्मेदारी है कि भारत से असम को काट दें। जब ऐसा होगा, उसके बाद ही सरकार हमारी बात सुनेगी।’’

चिकन नेक 22 किमी का हाईवे है, जो पूर्वोत्तर राज्यों को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ता है।

इसी भाषण ने केंद्र सरकार को शर्जील इमाम के खिलाफ तुरंत हरकत में आने पर मजबूर कर दिया!

इसी बिच शर्जील इमाम का भारत के अन्य एक विछिन्नता वादी मुस्लिम संगठन PFI के साथ का करिव रिश्ते होने का भी खबर सामने आया!

उसने दुसरे एक भाषण के दरमियाँ ये भी कहा के ‘जमियत ए उलेमा हिन्द’ जैसे मुस्लिम संगठन भी

उसके भारत को टुकड़े करने के रस्ते का रुढ़ा बना हुआ है!

फिलहाल शर्जील इमाम के गिरफ्तारी के साथ दिल्ली सहित भारत क शांतिप्रिय नागरिक कुछ चैन की स्वाश ले रही है!

#समाज_विकास_संवाद,  #समाज_का_विकास, आज तक ताजा खबर, आज की ताजा खबर,

Amazing Amazon News, Samaj Vikas Samvad, New India News, Samaj Ka Vikas,

Gadget Samvad, science-technology Samvad, Global Samvad,

Amazon Prime News,

व्यापार संवाद, आयुर्वेद संवाद, गैजेट्स संवाद, समाज विकास संवाद

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here